छत्तीसगढ़ विशेष का World Environment Day 2020 पर विशेष -- पर्यावरण को बचाने की दिशा में आप भी कर सकते हैं ये छोटे काम


Report manpreet singh 


Raipur chhattisgarh VISHESH : हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। पूरी दुनिया में इस दिन लोगों को प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों को बचाने के लिए जागरूक किया जाता है। जिससे कि इंसान के साथ ही पृथ्वी पर सभी जीव-जन्तु और पेड़-पौधे भी जिंदा रह सकें। दुनियाभर में होने वाले तमाम तरह के आयोजनों के जरिए भले ही पर्यावरण के प्रति जागरुक किया जाता हो लेकिन कोरोना वायरस के कहर के बाद देशों में लगे लॉकडाउन ने जहां बहुत सारी इंसानी गतिविधियों को रोक दिया तो प्रकृति ने खुद को एक बार फिर से संवार लिया है। कोरोना वायरस का कहर एक तरह से इंसान के लिए चेतावनी है कि यदि उनसे अपनी गतिविधियों के जरिए पर्यावरण को सुधारने का प्रयास नहीं किया तो वो प्रकृति अपने रास्ते खुद बना लेगी। इसलिए हर इंसान को अपनी तरफ से पर्यावरण को बचाने के लिए कोशिश करनी चाहिए। भले ही ये कोशिश छोटी हो लेकिन होनी चाहिए। क्योंकि कहा गया है ‘बूंद-बूंद से घड़ा भरता है।’ हर इंसान की छोटी कोशिश ही एक दिन बड़ा रूप लेगी। तो आइए जानें वो कौन से काम है जिन्हें कर आप भी पर्यावरण को बचाने में सहयोग कर सकते हैं।


पानी का बचाव


हवा और पानी जीवन के दो जरूरी तत्व हैं। जिनके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। इसलिए पानी को बर्बाद होने से बचाइए। घर में किए जाने वाले कामों से ही आप पानी की बर्बादी की रोक सकते हैं। नहाते समय, कपड़ा धोते समय और साफ-सफाई के समय आप पानी को कम इस्तेमाल कर इस काम में सहयोग दे सकते हैं।


ऐसे रोजाना के बहुत से काम है जिनमें आप पानी की बेवजह बर्बादी को रोक सकते हैं। जैसे दांत साफ करते समय या शेविंग के समय बहुत लोग सिंक का नल खुला रखते हैं। जिसकी वजह से बहुत सा पानी नालियों में जाकर खराब हो जाता है। घर में इस्तेमाल होने वाले पानी को रिसाइकल करें। घर में किसी भी तरह का पानी का लीकेज हो तो उसे फौरन ठीक करवाएं। हर छोटी चीज में पानी के इस्तेमाल को कम कर पानी की बर्बादी को रोका जा सकता है।


बिजली बनाने के लिए पानी का उपयोग किया जाता है। इसलिए पानी की बर्बादी को रोकने का एक तरीका बिजली की खपत को कम करना भी है। कमरे से निकलते समय लाइट, पंखा और एसी बंद कर दें। लैपटॉप और कंप्यूटर को टर्न ऑफ करके रखना चाहिए।


डिस्पोजल कप और गिलास का हो सके तो कम इस्तेमाल करें। ऑफिस में चाय या कॉफी पीने के लिए सिरेमिक कप का इस्तेमाल सबसे बढ़िया है।


पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने में गाड़ियों से निकलने वाले धुएं काफी हद तक जिम्मेदार हैं। इसलिए जहां तक हो सके तो कार और मोटरसाइकिल का इस्तेमाल कम करें। अगर पास में ही जाना है तो पैदल जाने का प्रयास करें। आप चाहे तो छोटे काम के लिए एक साइकिल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।


सरकार के कहने से नहीं अपने विवेक से काम लीजिए और प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करिए। ऐसी चीजों का इस्तेमाल करें जो आसानी से रिसाइकल हो जाए।


हो सके तो कागज का इस्तेमाल कम करिए क्योंकि इन कागजों को बनाने के लिए भी पेड़ की जरूरत पड़ती है। इसलिए किसी भी चीज का पेपर बिल लेने से अच्छा है कि ऑनलाइन बिल मंगवाएं। प्रिंट करना ही है तो कागज के दोनों तरफ प्रिंट करें।


कंप्यूटर और लैपटॉप जैसे उपकरणों को खराब होने पर फेंके नहीं बल्कि रिसाइकलिंग के लिए दे दें। जिससे कि इन चीजों को फिर से इस्तेमाल में लिया जा सके।


 


 


Popular posts
स्किन और हेयर प्रॉब्लम्स से बचने के लिए डाइट में लें विटामिन ई का करे प्रयोग
Image
प्रधानमंत्री शनिवार को, विश्व की सबसे लम्बी राजमार्ग सुरंग- अटल सुरंग का उद्घाटन करेंगे
Image
ईद-उल-अजहा पर्व पर आज विधायक कुलदीप जुनेजा और छत्तीसगढ़ विशेष के सम्पादक मनप्रीत सिंह ने सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते कहा कि ईद-उल-अजहा पर्व हमे भाईचारा एवं एकजुटता का संदेश देता है
Image
दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने हरियाणवी सिंगर और डांसर सपना चौधरी के खिलाफ केस दर्ज किया - धोखाधड़ी का मामला
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
महिला कांस्टेबल ने साथ क्वारेंटीन होने BF को बनाया नकली पति, तभी आ पहुंची असली पत्नी फिर जो हुआ...
Image
हास्य केंद्र योग के दसवें स्थापना वर्ष में शामिल हुए विधायक कुलदीप जुनेजा
Image
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, व्यापक स्तर पर ‘लॉकडाउन’ लगाने का विचार नहीं - महामारी की रोकथाम के लिये केवल स्थानीय स्तर पर नियंत्रण के कदम उठाये जाएंगे
Image
हरसिंगार एक पुष्प देने वाला वृक्ष है, सदा प्रसन्न रहती हैं लक्ष्मी माता, इन फूलों से मिलती है समृद्धि
Image
क्या थी काला पानी की सजा - भारत में आजादी के पहले अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ और आजादी की मांग करने वालों को अंग्रेज सरकार काला पानी की सजा देती थी
Image