ईरान बोल रहा चीन की जुबान, चाबहार रेल प्रोजेक्ट से बाहर करने के बाद भारत के खिलाफ दिया बड़ा बयान


रिपोर्ट मनप्रीत सिंह 


रायपुर छत्तीसगढ़ विशेष : तेहरान , बता दें कि ईरान ने भारत की तरफ से फंडिंग में देरी का हवाला देते हुए चाबहार के रेल प्रोजेक्ट पर अकेले ही काम शुरू कर दिया है। हालांकि, ईरान के कुछ अधिकारियों ने कहना है कि अगर भारत बाद में शामिल होना चाहे तो उसके लिए दरवाजे बंद नहीं हुए हैं। ईरान ने भारत से दूरियां बनाना शुरु किया है,वहीं चीन से नजदीकियां बढ़ाने की दिशा में तत्पर है। ईरान ने चीन के साथ 25 सालों के लिए 400 अरब डॉलर की रणनीतिक साझेदारी की है। वहीं चाबहार के रेल प्रोजेक्ट से भारत के बाहर होने और चीन की ईरान के साथ हुई मेगाडील के बाद चाबहार और ग्वादर बंदरगाह चीन के लिए फायदा का सौदा साबित होने जा रहा है। पाकिस्तान और ईरान इसे पहले भी सिस्टर पोर्ट्स कहते रहे हैं।


ग्वादर बंदरगाह और चाबहार इलाके के बीच की दूरी 100 किमी से भी कम है l भारत का अच्छा दोस्त ईरान अब चीन का पसंदीदा बन गया है। वहीं अमेरिका से बिगड़ते रिश्तों के बीच ईरान भी चीन का साथ चाहता है। दरअसल चीन से विवाद और अमेरिका से रिश्ते बेहतर करने की रणनीति के तहत ईरान के साथ भारत के व्यापारिक संबंधों पर फर्क पड़ा है। ईरान इस वजह से भारत से नाराज है। यही वजह है कि चाबहार के सामरिक रूप से अहम रेल प्रोजेक्ट से भारत को बाहर करने के बाद ईरान ने बुधवार को बेल्ट ऐंड रोड और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का समर्थन किया है।  बता दें कि ईरान में भारत द्वारा बनाए गए चाबहार बंदरगाह को पाकिस्तान-चीन आर्थिक कॉरिडोर के तहत बनाए गए ग्वादर बंदरगाह का जवाब माना जाता रहा है। हालांकि, अब ईरान चीन के साथ अपने संबंध बढ़ा रहा है।


चीन जल्द ही ईरान में 400 अरब डॉलर की डील पर आगे बढ़ रहा है । इस डील के पहले ईरान के राजदूत ने भारत का नाम तो नहीं लिया, लेकिन इशारा साफ था। ईरानी राजदूत ने चाबहार के रेल प्रोजेक्ट पर भारत के बिना ही काम शुरू करने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा, जब कुछ देशों की सरकारें ईरान के साथ अपने संबंधों को लेकर दिलचस्पी नहीं दिखा रही हैं और सामान्य बातचीत के लिए भी उन्हें दूसरों की इजाजत लेनी पड़ रही हो तो वे लंबे समय की साझेदारी पर कैसे काम कर पाएंगे। ईरान के राजदूत ने भारत के उम्मीद के विपरीत कहा कि, निश्चित तौर पर, बेल्ट ऐंड रोड परियोजना और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर क्षेत्रीय विकास के लिए उपयुक्त मंच है, खासकर ईरान, पाकिस्तान और चीन के लिए। विकास का ये मॉडल केवल हमारे लिए ही नहीं बल्कि क्षेत्र के दूसरे देशों के बीच सहयोग का भी एक मॉडल है। वहीं ईरान में पाकिस्तान के राजदूत सैय्यद मोहम्मद अली हुसैनी ने ईरान के इस बयान को हाथों हाथ लिया है। पाकिस्तान ने कहा है कि बीआरआई और सीपीईसी चीन, ईरान और पाकिस्तान समेत पूरे क्षेत्र के लिए फायदेमंद है।


Popular posts
RAIPUR SPECIAL : दिनाक 08 मार्च को " मयूर वाटिका भू- कल्याण समिति " का सेजबहार में प्लाट स्थल पर बैठक का आयोजन किया गया
Image
विशेषज्ञों का दावा-प्रदूषण में कमी होने से स्कूली बच्चों की बढ़ सकती है याददाश्त
Image
राफेल से भारत मे नये युग की शुरूआत ---- फ्रांस से भारत के अम्बाला में 5 राफेल लड़ाकू विमान हुए लैंड.
Image
स्किन और हेयर प्रॉब्लम्स से बचने के लिए डाइट में लें विटामिन ई का करे प्रयोग
Image
कोविड-19 महामारी का अंत अभी काफी दूर है - विश्व स्वास्थ्य संगठन प्रमुख
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
प्रदेश में तीन स्पेशल ट्रेनें शुक्रवार से होंगी शुरू , देखे
Image
महासमुंद , किसान से रिश्वत लेते ग्रामीण बैंक का शाखा प्रबंधक और चौकीदार गिरफ्तार - एंटीकरप्शन ब्यूरो की टीम ने की कार्रवाई
Image
ट्रैक्टर चलाते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी पहुंचे किसान चौपाल - कांग्रेस को लेकर कहीं ये बात
Image
कोविशील्ड वैक्सीन को WHO देगा प्रमाणपत्र, कि जमकर तारीफ
Image