मातृ-भाषाओं का प्रशासन और अन्य क्षेत्रों में अधिक से अधिक इस्तेमाल हो - उपराष्ट्रपति


Report manpreet singh 


Raipur chhattisgarh VISHESH : नई दिल्ली, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि देशी भाषाओं या मातृ-भाषाओं का प्रशासन सहित विभिन्न क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जाना चाहिए। 


उनका कहना था कि मातृ-भाषा में शिक्षा दिए जाने से बच्चों को विषय के समझने और परखने में आसानी होती है जबकि दूसरी भाषा से बच्चों को ऐसा लाभ नहीं मिलता। श्री नायडू ने आज तेलुगू भाषा दिवस के अवसर पर हमारी भाषा, हमारा समाज और हमारी संस्कृति विषय पर आयोजित वेबिनार को संबोधित करते हुए ये विचार व्यक्त किए। उन्होंने जोर देकर कहा कि भाषा और संस्कृति समाज के विकास की आधारशिला होती है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि किसी भाषा की गौरवशाली विरासत और समृद्धि को केवल आने वाली पीढिय़ों को पारंगत करके ही सुरक्षित और संरक्षित किया जा सकता है।


Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
राजधानी रायपुर से लगी खारून नदी के किनारे कुम्हारी से अमलेश्वर तक बनेगी 8 किमी नई सड़क
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, कचरा गोदाम खुलवाया गया तो युवकों ने पुलिस पर हमला करने की कोशिश मगर फोर्स को हावी होता देख, ठंडे पड़ गए और 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया
Image