कोरोना काल में 6 माह में 12 घोड़ियों की गई जान - घोड़ी बग्गी वालों के व्यापार पर बुरा प्रभाव


 Report manpreet singh 

RAIPUR chhattisgarh VISHESH : रायपुर, कोविड काल में घोड़ी बग्गी व्यापार को बड़ा झटका लगा है घोड़ियों के लिए पर्याप्त दाना पानी की व्यवस्था नहीं हो पा रही है. जिस वजह से बीते 6 महीने में 12 घोड़ियों की मौत हो गई. आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण बग्गी वाले घोड़ियों को आधे पेट खाना खिला रहे हैं. कमजोरी के चलते घोड़ियों की मौत हो रही है.जिसमें से एक मेरी घोड़ी की भी मौत हुई है मौत भी इसी वजह से हो रहे हैं कि उनकी देखरेख नहीं हो पा रही है, स्टाफ नहीं आ रहे हैं, घोड़ियों को पर्याप्त चारा नहीं मिल पा रहा है.

पेटभर हम उन्हें खाना नहीं दे पा रहे है, आधे पेट खिलाते हैं. हम लोगों में से ही कोई सब्जी बेच रहा है, कोई जोमैटो में जा रहे हैं, यदि हमारा व्यापार चालू होता है तो हम कोरोना की गाइडलाइन का पालन करेंगे.राजाराम साहू ने बताया कि 6 महीने में 12 घोड़ियों की मौत हो गई है, उनमें से मेरी दो घोड़ियो की मौत हुई है और घोड़ियों को बच्चे की तरह पालना पड़ता है हमें बहुत दिक्कत हो रही है. हमारे पास दवा के भी पैसे नहीं है. घोड़ियों को खिलाने वाला चारा भी महंगा हो रहा है इस वजह से दिक्कत हो रही 

Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
बार बंद तो घर में शुरू कर दी हुक्का पार्टी -पुलिस ने की छापेमारी -धरे गए हुक्का पीते 11 रईसजादे
Image
राजधानी रायपुर से लगी खारून नदी के किनारे कुम्हारी से अमलेश्वर तक बनेगी 8 किमी नई सड़क
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
महिला कांस्टेबल ने साथ क्वारेंटीन होने BF को बनाया नकली पति, तभी आ पहुंची असली पत्नी फिर जो हुआ...
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image