बटला हाउस मुठभेड़ पर पुलिस अधिकारी करनैल सिंह का दावा - खुश नहीं थे कुछ लोग, मीडिया को जानकारी देने पर गृहमंत्रालय ने लगा दी गई थी रोक


Report manpreet singh 

Raipur chhattisgarh VISHESH : दिल्ली में 2008 में हुए बम धमाकों की जांच का नेतृत्व करने वाले पुलिस अधिकारी करनैल सिंह के मुताबिक इन धमाकों के करीब एक हफ्ते बाद हुई बटला हाउस मुठभेड़ पर दिल्ली पुलिस ने जब कुछ संवाददाता सम्मेलन किए तो गृह मंत्रालय की तरफ से उसे निर्देश मिला कि जांच में प्रगति के बारे में मीडिया को और जानकारी न दी जाए।

सिंह ने 19 सितंबर 2008 को दिल्ली के जामिया नगर इलाके में हुई मुठभेड़ से जुड़ी यह और ऐसी ही कई अन्य जानकारियां अपनी किताब ”बटला हाऊस: ऐन एनकाउंटर दैट शुक द नेशन” में साझा की हैं।इस मुठभेड़ में इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के दो आतंकवादी मारे गए थे। इस मुठभेड़ के दौरान बटला हाउस इलाके में पुलिस कार्रवाई का नेतृत्व करने वाले इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा शहीद हो गए थे।

लेखक ने खुफिया ब्यूरो (आईबी), विभिन्न भारतीय शहरों में घटनाक्रम से जुड़े तारों, स्थानीय स्तर पर खुफिया जानकारियों और मुखबिरों से मिली विभिन्न जानकारियों को एक साथ गूंथकर मुठभेड़ की पृष्ठभूमि तैयार करने वाले घटनाक्रम का मिनट-दर-मिनट ब्योरा अपनी इस किताब में पेश किया है।

मुठभेड़ के समय दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के संयुक्त आयुक्त रहे सिंह ने कहा कि पुलिस द्वारा मीडिया के साथ कुछ मौकों पर जानकारियां साझा किए जाने के बाद उन्हें पुलिस आयुक्त का एक फोन आया कि गृह मंत्रालय नहीं चाहता कि वे जांच में होने वाली प्रगति के बारे में और मीडिया ब्रीफिंग करें।

आईपीएस अधिकारी ने अपनी किताब में लिखा, ”आतंकवादियों के अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े होने के विवरण बाहर आने से राजनीतिक हलकों के कुछ लोग खुश नहीं थे। मेरी यह दलील व्यर्थ साबित हुई कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता और एक पुलिस अधिकारी के तौर पर यह हमारा कर्तव्य है कि हम आतंकवादियों को पकड़ने के लिए सुराग पर काम करें, भले ही उनका धर्म कुछ भी हो।”

उन्होंने कहा कि वह जानते थे कि ”ऐसे महत्वपूर्ण मामले में मीडिया को यूं ही अलग छोड़ देने के परिणाम खतरनाक हो सकते हैं क्योंकि ऐसे में आधी-अधूरी जानकारी बाहर आएगी या फिर उससे भी बुरा यह हो सकता है कि गलत और मनगढ़ंत खबरें आने लगें।”उनके मुताबिक, मीडिया हमसे जानकारी मांग रहा था लेकिन हमें सख्त आदेश थे कि मीडिया से जांच संबंधी कोई बात साझा न की जाए। ”इसलिये, वहां अफरा-तफरी थी।

मैं दावे से कह सकता हूं कि दिल्ली पुलिस धारणा की लड़ाई हार रही थी।” उन्होंने कहा कि बटला हाउस मुठभेड़ आतंकवाद के खिलाफ जंग में एक ऐतिहासिक घटनाक्रम साबित हुई।

रूपा प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की जा रही इस किताब में सिंह ने लिखा, ”इसने आईएम को करारा झटका दिया क्योंकि उसके प्रमुख सदस्यों को काबू में किया गया और भारत में उसके नेटवर्क की कमर टूट गई। हमनें अपने सबसे होशियार और बहादुर अफसरों में से एक को खो दिया, जिसकी तफ्तीश से हम आईएम के मुख्य सदस्यों तक पहुंचे।” यह मुठभेड़ विवादों के घेरे में रही और इसको लेकर काफी सियासत भी हुई। कुछ दिनों पहले राजधानी में हुए धमाकों की वजह से सरकार पर भी दबाव था।

Popular posts
स्किन और हेयर प्रॉब्लम्स से बचने के लिए डाइट में लें विटामिन ई का करे प्रयोग
Image
ईद-उल-अजहा पर्व पर आज विधायक कुलदीप जुनेजा और छत्तीसगढ़ विशेष के सम्पादक मनप्रीत सिंह ने सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते कहा कि ईद-उल-अजहा पर्व हमे भाईचारा एवं एकजुटता का संदेश देता है
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
शरीर को डिटॉक्स करने का एक बेहतरीन तरीका, तलवों पर एक खास तरह की मिट्टी लगाना,
Image
हास्य केंद्र योग के दसवें स्थापना वर्ष में शामिल हुए विधायक कुलदीप जुनेजा
Image
वन विभाग के कार्यालयों में उप वन क्षेत्रपाल/वन पाल/ वन रक्षक से लिपकीय कार्य नही लिये जाने का फरमान जारी
Image
उत्तर प्रदेश के एक ग्राम पंचायत में ग्राम प्रधान के द्वारा मृत्यु प्रमाण पत्र (Death certificate) जारी किया गया , जिसे आप भी देखे
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, कचरा गोदाम खुलवाया गया तो युवकों ने पुलिस पर हमला करने की कोशिश मगर फोर्स को हावी होता देख, ठंडे पड़ गए और 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया
Image
रायपुर , पूर्व विधायक श्री बैजनाथ चन्द्राकर ने करोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक (अपेक्स बैंक) के प्राधिकारी के साथ मुख्यमंत्री सहयता कोष मे 10.00 लाख की राशि दी
Image
शराब दुकान में घुसकर रात भर पीता रहा
Image