पहली खेप रवाना के साथ ही चीन ने भिलाई स्टील प्लांट से खरीदा हजारों टन इस्पात


  

Report manpreet singh 

RAIPUR chhattisgarh VISHESH : भिलाई, फिलीपींस और नेपाल के बाद चीन में भी भिलाई इस्पात संयंत्र की धाक बनती जा रही है। संयंत्र की अत्याधुनिक इकाई स्टील मेल्टिंग शॉप-3 ने कोविड के इस संकटकाल में भी उत्कृष्टता दिखाई है। शॉप-3 के कंटीन्यूअस कास्ट बिलेट की विश्व के सबसे बड़े इस्पात उत्पादक देश चीन में अच्छी मांग है। 105 गुना 105 एमएम आकार के बिलेट की पहली खेप गुरुवार को रवाना की गई।

कोविड के वर्तमान संकटकाल को अवसर में बदलते हुए बीएसपी ने भिलाई में निर्मित 150 गुना 150 एमएम आकार के और 105 गुना 105 एमएम आकार के बिलेट का निर्यात करने में सफलता पाई। बीएसपी स्टील मेल्टिंग शॉप-3 द्वारा 150 गुना 150 एमएम आकार के बिलेट के बीस-बीस हजार टन के दो खेप का निर्यात पहले ही चीन को किया गया था।

बीएसपी को वर्तमान में पुनः 150 गुना 150 बिलेट के 20 हजार टन का अतिरिक्त ऑर्डर प्राप्त हुआ है, जिसकी आपूर्ति 15 जून 2020 तक पूर्ण की जानी है। ऑर्डर के तहत बीएसपी के एसएमएस-3 द्वारा अब तक सात रैक बिलेट की आपूर्ति की जा चुकी है। यह संपूर्ण निर्यात विशाखापट्टनम पोर्ट के माध्यम से किया जा रहा है।

105 गुना 105 बिलेट का नया ऑर्डर

हाल ही में बीएसपी को चीन से 105 गुना 105 एमएम आकार के बिलेट का नया निर्यात ऑर्डर मिला। इसके तहत इस बिलेट साइज में दस-दस हजार टन के दो एक्सपोर्ट ऑर्डर की आपूर्ति की जानी है। इसमें से 21 मई 2020 को बिलेट के पहली खेप चीन के लिए रवाना की गई।

कांट्रेक्ट के लिए फास्ट ट्रैक प्रक्रिया

विदित हो कि सामान्यतः कांट्रेक्ट की प्रक्रिया में दो से तीन महीने का समय लगता है, परंतु निर्यात ऑर्डर को तत्काल पूर्ण करने के लिए इस बंडलिंग काट्रैक्ट को फास्ट ट्रैक में प्रोसेस करते हुए दस दिन में ही कांट्रेक्ट अवार्ड कर दिया गया।

फिलीपींस और नेपाल को भी निर्यात

बता दें कि भिलाई इस्पात संयंत्र ने पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में एसएमएस-3 में उत्पादित कास्ट बिलेट्स का निर्यात प्रारंभ किया था। एसएमएस-3 द्वारा पिछले वित्तीय वर्ष में 8100 टन कास्ट बिलेट्स का निर्यात फिलीपींस को और लगभग 800 टन कास्ट बिलेट्स का निर्यात नेपाल को किया गया।

ऊर्जावान टीम के सदस्य

इस अहम एक्सपोर्ट ऑर्डर्स को पूरा करने में एसएमएस-3 के मुख्य महाप्रबंधक के भट्टाचार्जी के नेतृत्व में महाप्रबंधक प्रभारी एसएमएस-3 प्रकाश भंगाले, महाप्रबंधक (ऑपरेशन) द्वय अरविंद कुमार व डी. विजिथ, वरिष्ठ प्रबंधक एके सिंह, उप प्रबंधक विक्रांत, कनिष्ठ अधिकारी बीएस चंदेल, डिस्पैच के पाली प्रभारी, वरिष्ठ प्रबंधक एन गिलहरे, कनिष्ठ अधिकारी एके चैकीकार व मास्टर तकनीशियन एस. फिलिप्स ने प्रमुख योगदान दिया।

Popular posts
एयर चीफ मार्शल राकेश भदौरिया का बड़ा बयान- LAC पर भारतीय वायुसेना चीन पर पड़ेगी भारी
Image
शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए तकनीकी पाठ्यक्रमों,PET, PPHT, PPT और PMCA की परीक्षाएं रद्द --- शैक्षणिक योग्यता और प्राप्तांक के आधार पर मिलेगी प्रवेश,देखे आदेश
Image
प्रशासन को सूद नहीं - रायपुर शहर के श्मशानघाटों पर अब चिता की लकड़ी भी आम आदमी की पहुंच से बाहर - चिता की लकड़ी 800 क्विंटल, कंडा 500 सैकड़ा
Image
4 साल की मासूम का किडनैप के बाद रेप, हत्या के बाद छुपाया पलंग के नीचे बच्ची की लाश को पलंग के नीचे छुपाकर बच्ची को ढूंढने का नाटक करने लगा
Image
हर किसी को दीवाना बनाती है मिजोरम की सुंदर घाटीया
Image
छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पर आदिवासियों के साथ छल, कपट और अन्याय का आरोप --- पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल
Image
ऐश्वर्या राज बच्चन और बेटी आराध्या को अस्पताल से छुट्टी….
Image
पीएम मोदी ने ट्वीट कर जापान के नए प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा को बधार्ई दी
Image
रिसाली नगर निगम अंतर्गत नेवई एवं स्टेशन मरोदा की भूमि भिलाई इस्पात संयंत्र से राज्य शासन को हस्तांतरित करने, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान को पत्र लिख कर आग्रह किया  
Image
कब्ज के लिए रामबाण दवा है सेंधा नमक, ऐसे करें सेवन
Image