सड़कों के मरम्मत एवं निर्माण कार्य को औद्योगिक प्रतिष्ठान व सार्वजनिक उपक्रम शीघ्रता से पूर्ण करें - जयसिंह


 बैठक में कोरबा क्षेत्र की विभिन्न सड़कों की दशा सुधारने पर दिया गया जोर ।

 अलग-अलग- औद्योगिक प्रष्ठिनों की जिम्मेदारी की गई सुनिश्चित।

 सभी औद्योगिक प्रतिष्ठानों ने सहयोग के लिए जाहिर की प्रतिबद्धता।

 बैठकों का दौर खत्म, अब कार्य को जमीनी स्तर पर कर दिखाने का समय है, कोताही अब बर्दाश्त नहीं।

Report manpreet singh 

Raipur chhattisgarh VISHESH : प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कोरबा क्षेत्र की विभिन्न सड़कों की खराब स्थिति को सुधारने के लिए आज अंचल के विभिन्न औद्योगिक प्रतिष्ठानों के लिए कोरबा नगर पालिक निगम द्वारा साकेत भवन में आहूत बैठक की अध्यक्षता किया। इस अति महत्वपूर्ण और संवेदनशील बैठक में कोरबा की विभिन्न सड़कों पर भारी वाहनों के आवागमन की वजह से खराब हुई स्थिति और जान-माल की सुरक्षा के नजरिए से पूर्व में तैयार की गई रूप रेखा से बैठक में शामिल हुए औद्योगिक प्रतिष्ठानों के अधिकारियों को अवगत कराया गया। राजस्व मंत्री ने बैठक में उपस्थित समस्त अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरबा के चहुंमुखी विकास में यहां संचालित सभी उद्योगों की महत्वपूर्ण भागीदारी है। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने स्पष्ट तौर पर कहा कि सामुदायिक विकास योजनाओं के तहत उद्योगों द्वारा किए जा रहे कार्यों के अतिरिक्त क्षेत्रीय विकास के लिए उनकी अलग जिम्मेदारियां भी हैं और मुझे खुशी है कि सभी उद्योगों ने मिलकर कोरबा के विकास में सराहनीय भूमिकाएं निभाई हैं।

राजस्व मंत्री ने बैठक में अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए स्पष्ट किया कि आज कोरबा की खराब सड़कों के लिए उनपर दौड़ने वाले भारी वाहन जिम्मेदार हैं जो मुख्य रूप से एस.ई.सी.एल., एन.टी.पी.सी., बालको और इण्डियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। उन्होने आगे कहा कि एक तरफ कोरबा के स्थानीय अथवा प्रदेश और देश के अन्य उद्योगों के लिए एस.ई.सी.एल. की खदानों से भारी वाहनों के जरिए कोयले का परिवहन किया जाता है तो दूसरी ओर बालको जैसे उद्योग के उत्पादों का परिवहन देश के अन्य हिस्सों के लिए भारी वाहनों के जरिए सड़क मार्ग से किया जाता है। विद्युत संयंत्रों जैसे एन.टी.पी.सी. और बालको से उत्सर्जित शुष्क राख का परिवहन भी सड़क मार्ग से विभिन्न क्षेत्रों के लिए किया जाता है। इण्डियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के गोपालपुर स्थित डिपो से पेट्रोल और डीजल का परिवहन टैंकरों के जरिए सड़क मार्ग से किया जाता है। इस तरह से कोरबा क्षेत्र में प्रतिदिन हजारों की संख्या में भारी वाहनों का आवागमन होता है जिसकी वजह से दिनोंदिन सड़कों की न केवल स्थिति खराब हो रही है वरन् आम नागरिकों का सड़कों पर सुरक्षित चलना कठिन हो गया है।

क्षेत्र में आम नागरिकों की सुरक्षित आवाजाही को ध्यान में रखते हुए और सड़कों की स्थिति को बेहतर बनाने की दिशा में राजस्व मंत्री ने अलग-अलग औद्योगिक प्रतिष्ठिनों के अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि उनके क्षेत्र में सड़कों के रख-रखाव की नैतिक जिम्मेदारी सम्बंधित उद्योगों की बनती है जोकि जन कल्याण के नजरिए से भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है। क्योंकि उन सड़कों की खराब स्थिति की मुख्य वजह उनके उद्योग से संबंधित व्यवसाय का संचालन है। ऐसे कार्यों के लिए जिला प्रशासन अथवा नगर निगम से सड़क मरम्मत संबंधी किसी प्रस्ताव की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है।

बैठक में उपस्थित एन.टी.पी.सी. के कार्यकारी निदेशक अश्वनी कुमार त्रिपाठी को निर्देशित करते हुए राजस्व मंत्री ने निर्देशित किया कि दर्री डेम से लेकर गोपालपुर तक 9.6 किलोमीटर लम्बी सड़क में से दर्री डेम से एन.टी.पी.सी. के गोपालपुर गेट तक 6.0 किलोमीटर दूरी तक की सड़क टू लेन सी.सी. रोड का निर्माण एन.टी.पी.सी. द्वारा करवाया जाए। इसी सड़क के शेष 3.6 किलोमीटर हिस्से जो एन.टी.पी.सी. गोपालपुर गेट से गोपालपुर चौक तक को पूरा करने की जिम्मेदारी इण्डियन ऑयल कॉरपोरेशन को सौंपी गई। बैठक में आईओ.सी. के वरिष्ठ प्रबंधक ओम प्रकाश उपस्थित थे।

इस बैठक में उपस्थित बालको के प्रशासन प्रमुख अवतार सिंह को निर्देशित करते हुए मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि दर्री डेम स्थित मेजर ध्यानचंद चौक से लेकर परसाभाटा तिराहा स्थित पुलिया तक पूर्व में बालको द्वारा बनाई गई आर.सी.सी. रोड की स्थिति अनेक स्थानों पर बहुत खराब हो गई है। इस सड़क पर भारी वाहनों का बहुत ज्यादा दबाव है और सड़क की हालत बहुत ज्यादा खराब है। आम नागरिकों के सुरक्षित आवागमन के लिए इस सड़क का चौड़ीकरण किया जाना अत्यंत आवश्यक है, अतएव इसकी चौड़ाई 10 मीटर तक विस्तारित किए जाने हेतु निर्देशित किया गया। इस सड़क का चौडी़करण हो जाने से आम नागरिकों बहुत सुविधा हो जायेगी। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने बालको को सुझाया कि सड़क के निचले भाग को ऊपर उठाकर यदि इस सड़क का डामरीकरण करा दिया जाए तो संभवतः आने वाले दस सालों तक इस सड़क पर किसी प्रकार के मरम्मत की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसी प्रकार बालको प्रबंधन को आगे निर्देशित करते हुए राजस्व मंत्री ने कहा कि आई.टी.आई. चौक से लेकर बालको संयंत्र के किनारे से होते हुए बेलगिरी बस्ती के निकट परसाभटा तिराहा तक की सड़क को फोर लेन बनाने की आवश्यकता है। उन्होने जोर देकर कहा कि बालको संयंत्र में प्रवेश करने वाले भारी वाहनों की लम्बी कतार की वजह से आम नागरिको के सुरक्षित आवाजाही पर सवालिया निशान बनता है।

एस.ई.सी.एल कोरबा के महाप्रबंधक एन.के.सिंह एवं गेवरा के महाप्रबंधक एस.के. पॉल को निर्देशित करते हुए राजस्व मंत्री ने कहा कि ट्रांसपोर्ट नगर चौक से मानिकपुर स्थित महाप्रबंधक कार्यालय तक की सड़क को आम नागरिकों की सुरक्षा की दृष्टि से फोर लेन बनाया जाना महत्वपूर्ण होगा। पूर्व में दिए गए प्रस्ताव के अनुसार मंत्री श्री अग्रवाल ने कहा कि कोरबा - चांपा सड़क मार्ग में कोरबा नगर से निकास हेतु इमली डुग्गु से बरबसपुर पुल तक प्रमुख मार्ग तथा रिंग रोड को जोड़नेवाली महत्वपूर्ण यह सड़क है। इस सड़क का निर्माण होना लोकहित एवं एस.ई.सी.एल. से परिवहन होनेवाले कोयला के लिए महत्वपूर्ण है। राजस्व मंत्री ने कहा कि स्थल का निरीक्षण कर इस फोरलेन सम्पूर्ण सड़क का निर्माण सी.सी. रोड के रूप में अथवा 60 प्रतिशत सी.सी. रोड एवं 40 प्रतिशत बिटुमिनस रोड के रूप में निर्माण कर भी इस सड़क का कार्य पूरा किया जा सकता है।

बैठक के अंत में राजस्व मंत्री ने सभी संबंधित उद्योगों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि उन्हें जो जिम्मेदारियां दी गई हैं, उनपर वे प्राथमिकता के आधार पर अमल करें। इस संबंध में कार्य प्रगति की जानकारी डे-टू-डे के आधार पर नियमित तौर पर ली जाएगी। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने जोर देकर कहा कि इस संबंध में पूर्व में कई बैठकें हो चुकी हैं, किन्तु अब बैठक का समय नहीं रहा अब कार्यों को जमीनी स्तर पर कर दिखाने का समय है और इस विषय पर अब किसी भी रूप में की गई कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

बैठक में कोरबा नगर पालिक निगम के महापौर राजकिशोर प्रसाद, सभापति श्याम सुन्दर सोनी, आयुक्त एस. जयवर्धन, अपर कलेक्टर संजय अग्रवाल, अपर आयुक्त अशोक शर्मा, एनटीपीसी के कार्यकारी निदेशक ए.के. ि़त्रपाठी व एजीएम एस.एस. दास, एस.ई.सी.एल कोरबा के महाप्रबंधक एन.के.सिंह, एसईसीएल गेवरा के महाप्रबंधक एस.के. पॉल, सीएसईबी के मुख्य अभियंता पी.के. जैन व अतिरिक्त मुख्य अंभियंता आर.के. टिकारिया, डीएसपीएम के अतिरिक्त मुख्य अभियंता एच.एन. कोसरिया, एचटीपीएस के कार्यकारी अभियंता शरद पाठक, आईओसीएल के वरि. प्रबंधक ओम प्रकाश दिलीवार, पी.डब्ल्यू.डी. के कार्यकारी अभियंता ए.के. वर्मा और नगर पालिक निगम के कार्यकारी अभियंता ग्यास अहमद व वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
वन विभाग के कार्यालयों में उप वन क्षेत्रपाल/वन पाल/ वन रक्षक से लिपकीय कार्य नही लिये जाने का फरमान जारी
Image
खुदा से डरे - गरीबो को राशन या सहायता प्रदान करते समय फ़ोटो न खिंचाए न ही शेयर करे, ये सम्मान की बात नही
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, कचरा गोदाम खुलवाया गया तो युवकों ने पुलिस पर हमला करने की कोशिश मगर फोर्स को हावी होता देख, ठंडे पड़ गए और 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया
Image