अमेरिकी दवा कंपनी फाइजर ने उम्मीद जताई है कारोंना वैक्सीन अगले माह के अंत तक वितरण के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएगी

 


Report manpreet singh 

Raipur chhattisgarh VISHESH : नई दिल्ली, अमेरिकी दवा कंपनी फाइजर ने उम्मीद जताई है कि उसके द्वारा विकसित की जाने वाली कोरोना वैक्सीन अगर अंतिम चरण के मानव परीक्षण में सुरक्षित और प्रभावी साबित होती है तो अगले माह के अंत तक वह वितरण के लिए पूरी तरह तैयार होगी।

फाइजर ने कहा कि उसे अक्टूबर के अंत तक यह पता चल जाएगा कि जर्मनी की कंपनी बायो एनटेक के साथ मिलकर उसके द्वारा विकसित की जाने वाली कोरोना वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है या नहीं। उसने कहा कि जैसे ही यह पता चलता है कि वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है, वह तत्काल इसके आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्राधिकरण (यूएसएफडीए) के समक्ष आवेदन करेगी। कंपनी अब तक वैक्सीन के लाखों खुराक तैयार कर चुकी है।

फाइजर द्वारा विकसित की जाने वाली कोरोना वैक्सीन मानव परीक्षण के अंतिम एवं तीसरे चरण में हैं। तीसरे चरण का परीक्षण करीब 23 हजार वॉलेंटियर पर किया गया है और इनमें से हजारों को दूसरा बूस्टर डोज भी दिया जा चुका है।

फाइजर के इस बयान के एक दिन पहले ही अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने अमेरिका के सभी 50 राज्यों तथा 5 बड़े शहरों के जनस्वास्थ्य अधिकारियों को यह निर्देश दिया था कि वह स्वास्थ्यकर्मियों और कोरोना संक्रमण के अत्यधिक जोखिम वाले समूहों के बीच कोरोना वैक्सीन के वितरण के लिए अक्टूबर के अंत तक या नवंबर की शुरुआत पर पूरी तैयार कर लें।

Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
बार बंद तो घर में शुरू कर दी हुक्का पार्टी -पुलिस ने की छापेमारी -धरे गए हुक्का पीते 11 रईसजादे
Image
राजधानी रायपुर से लगी खारून नदी के किनारे कुम्हारी से अमलेश्वर तक बनेगी 8 किमी नई सड़क
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
महिला कांस्टेबल ने साथ क्वारेंटीन होने BF को बनाया नकली पति, तभी आ पहुंची असली पत्नी फिर जो हुआ...
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image