जानिए कैसे काम करता है वैपकेयर - कोरोना मरीजों की जान बचाने में मददगार साबित हो रहा है वैपकेयर


Report manpreet singh 

 RAIPUR chhattisgarh VISHESH : कोरोना मरीजों की जान बचाने में मददगार साबित हो रहा है वैपकेयर, जानिए कैसे काम करता है ये डिवाइस l कोरोना के गंभीर मरीजों को सांस की समस्या के कारण वेंटिलेटर की जरूरत होती है। आइये जानें InnAccel कंपनी का बनाया Vapcare Device इन मरीजों की जान कैसे बचा रहा है।

 गंभीर रूप से बीमार मरीजों के लिए वेंटिलेटर कितना महत्वपूर्ण साबित हो सकता है, ये कोरोना वायरस महामारी के समय में हमें पता चल गया है। खासकर ऐसे मरीज, जिन्हें सांस लेने में तकलीफ हो, उनके लिए वेंटिलेटर्स जीवन रक्षक साबित हो सकते हैं। निमोनिया एक ऐसी ही समस्या है, जिसमें बहुत सारे लोग सांस की कमी से जूझते हए मर जाते हैं। ऐसे में बेंगलुरू की स्टार्टअप कंपनी InnAccel ने एक कोरोना वायरस महामारी आने से पहले ही एक ऐसा डिवाइस बना लिया था, जो निमोनिया जैसी स्थिति वाले मरीजों की जान बचाने में बहुत मददगार है। इस डिवाइस को Vapcare Device नाम दिया गया, खबरों की मानें तो इसके इस्तेमाल से कोरोना वायरस महामारी के समय में सैकड़ों लोगों की जान बचाई जा सकी है।  

कंपनी के अधिकारियों के अनुसार उसने 6 राज्यों में अपने सिस्टम्स की सप्लाई की है। इसी कंपनी के बनाए Vapcare और Fetal Lite डिवाइसेज ने भी महामारी के दौरान हजारों लोगों की जिंदगियां बचाने का काम किया है।

 क्यों खास है वैपकेयर डिवाइस

वैप-केयर उन मरीजों के लिए फायदेमंद है जो गंभीर हालत के चलते आइसीयू में वेंटिलेटर पर पहुंच जाते हैं। ये डिवाइस मरीज के मुंह से ऑटोमैटिक तरीके से अतिरिक्त फ्लुइड को निकाल लेता है, जिससे वो फेफड़ों तक पहुंचकर निमोनिया के संक्रमण का कारण न बन जाए। अगर यही काम नर्स के द्वारा किया जाता है, तो उसमें लगातार देखरेख की भी जरूरत पड़ती है और समय भी ज्यादा लगता है, जबकि इस डिवाइस से ये काम ऑटोमैटिक तरीके से हो जाता है।

 हर साल 6 लाख लोग होते हैं गंभीर निमोनिया का शिकार

वैप का अर्थ है Ventilator-Associated Pneumonia। भारत में इस समस्या से लगभग 6 लाख लोग प्रभावित होते हैं, जिनमें से 30 प्रतिशत की मृत्यु हो जाती है। कोरोना वायरस महामारी के समय में इस डिवाइस का महत्व और अधिक बढ़ जाता है क्योंकि इसके प्रयोग से ऑटोमैटिक मशीन के जरिए ही बिना रोगी के संपर्क में आए उसके मुंह से निकलने वाली गंदगी को साफ किया जा सकता है, जिससे डॉक्टर्स और नर्सेज में इंफेक्शन का खतरा भी कम होता है। इसके अलावा महामारी के समय में इस डिवाइस के प्रयोग से हॉस्पिटल स्टाफ का कीमती समय भी बचा है।

 इस डिवाइस को InnAccel Technologies के क्रिटिकल केयर यूनिट कोइयो लैब्स ने बनाया है, जिसके लीड इंजीनियर नितेश जांगीर हैं। वैपकेयर को बॉयोटेक्निकल इंडस्ट्री रिचर्स एसिस्डेंस काउंसिल (बीएआरएसी) की तरफ से मान्यता मिल चुकी है और ये 2015 में अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के 16 हेल्थकेयर टेक्नोलॉजी विनर्स में से एक हैं।

Popular posts
उत्तर प्रदेश के एक ग्राम पंचायत में ग्राम प्रधान के द्वारा मृत्यु प्रमाण पत्र (Death certificate) जारी किया गया , जिसे आप भी देखे
Image
नेहा कक्कड़ की शादी तय - पंजाबी सिंगर से इसी महीने के आखिर तक रचाएंगी ब्याह
Image
बिल्डर के यहां आयकर छापा --- 100 से ज्यादा संपत्तियों का पता चला
Image
फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने लिया फैसला - अब स्कूलों के कैंटीन में नहीं मिलेगा चाऊमीन, पिज्जा, बर्गर
Image
स्किन और हेयर प्रॉब्लम्स से बचने के लिए डाइट में लें विटामिन ई का करे प्रयोग
Image
ईद-उल-अजहा पर्व पर आज विधायक कुलदीप जुनेजा और छत्तीसगढ़ विशेष के सम्पादक मनप्रीत सिंह ने सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते कहा कि ईद-उल-अजहा पर्व हमे भाईचारा एवं एकजुटता का संदेश देता है
Image
सुबह गहरी नींद में थे लोग, हिली धरती
Image
मॉडल की शिकायत पर उद्योगपति के फार्महाउस में पर छापा -- वेब सीरीज बनाने के नाम पर डर्टी पिक्चर का खेल
Image
मध्यप्रदेश में आयकर विभाग के छापों पर सियासत गर्म --- फेथ बिल्डर्स IT रेड , आयकर विभाग ने 20 में से 10 ठिकानों पर कार्रवाई पूरी कर ली है।
Image
क्या आपको भी है सांस की बीमारी - तो बरतें यह सावधानी
Image