मणिपुर-नगालैंड के पूर्व राज्यपाल और CBI निदेशक, अश्विनी कुमार ने की आत्महत्या


 Report manpreet singh 

Raipur chhattisgarh VISHESH : केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक एवं नगालैंड के पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार बुधवार को शिमला स्थित अपने आवास में फंदे से लटके पाये गए. यह जानकारी अधिकारियों ने दी. कुमार 2008 में सीबीआई के निदेशक बने थे जब एजेंसी आरुषि तलवार हत्या मामले की जांच कर रही थी. कुमार ने विजय शंकर की जगह सीबीआई के निदेशक का पद संभाला था।अधिकारियों ने बताया कि कुमार बाद में नगालैंड के राज्यपाल बने थे. कुमार अभी शिमला में एक निजी विश्वविद्यालय के कुलपति थे. अधिकारियों ने बताया कि 1973 बैच के आईपीएस अधिकारी कुमार का शव बुधवार शाम में शिमला स्थित उनके आवास में फंदे से लटका मिला।

पुलिस ने घटनास्थल से सुसाइड नोट बरामद की है, जिनमें लिखा है कि जिंदगी से तंग आकर अगली यात्रा पर निकल रहा हूं. उनकी खुदकुशी की इस घटना से हर कोई हैरान परेशान है. सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ समय से वह डिप्रेशन में चल रहे थे।भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अफसर अश्विनी कुमार नागालैंड और मणिपुर के राज्यपाल भी रहे थे. इससे पहले अश्विनी अगस्त 2006 से जुलाई 2008 तक पुलिस महानिदेशक भी थे. बाद में वह सीबीआई के निदेशक बने और फिर वह इस पद पर 2 साल से ज्यादा समय तक रहे।

पूर्व राज्यपाल अश्विनी कुमार का जन्म सिरमौर के जिला मुख्यालय नाहन में हुआ था. वह आईपीएस थे और सीबीआई और एलीट एसपीजी में विभिन्न पदों पर रहे थे. वह अगस्त 2008 से नवंबर 2010 के बीच सीबीआई के डायरेक्टर पर कार्यरत थे।अश्विनी कुमार सीबीआई के पहले ऐसे चीफ हैं, जिन्हें बाद में राज्यपाल बनाया गया था. उन्हें मार्च 2013 में नगालैंड का राज्यपाल नियुक्त किया गया था. हालांकि, उन्होंने वर्ष 2014 में अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था. इसके बाद वह शिमला में एक निजी विवि के वीसी भी रहे. अश्विनी कुमार हिमाचल पुलिस के डीजीपी भी थे।

Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
वन विभाग के कार्यालयों में उप वन क्षेत्रपाल/वन पाल/ वन रक्षक से लिपकीय कार्य नही लिये जाने का फरमान जारी
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
खुदा से डरे - गरीबो को राशन या सहायता प्रदान करते समय फ़ोटो न खिंचाए न ही शेयर करे, ये सम्मान की बात नही
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, कचरा गोदाम खुलवाया गया तो युवकों ने पुलिस पर हमला करने की कोशिश मगर फोर्स को हावी होता देख, ठंडे पड़ गए और 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया
Image