गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को


Report manpreet singh 


Raipur chhattisgarh VISHESH :गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को  छत्तीसगढ़ के स्टील सिटी भिलाई में जन्मे और पले-बढ़े लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह की सैन्य रणनीति आखिरकार रंग दिखाने लगी है। 


 स्टील सिटी भिलाई में जन्मे और पले-बढ़े लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह (Lieutenant General Harinder Singh) की सैन्य रणनीति आखिरकार रंग दिखाने लगी है। भारतीय सेना के इस जाबांज अफसर ने बीस जवानों की शहादत का बदला शर्तों के साथ चीनी फौज को गलवान घाटी से पीछे हटने पर मजबूर करके लिया है। वो बात अलग है कि धोखेबाज चीन अपनी आदतों से मजबूर है, जिसके चलते दोनों देशों के बीच अभी भी इस क्षेत्र में तनाव कायम है। लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद पर कोर कमांडर स्तर के बैठक का नेतृत्व करने वाले लेफ्टिनेंट जनरल सिंह 6 जून से चीनी फौज के अधिकारियों के साथ द्विपक्षीय वार्ता कर रहे थे। 22 जून को लगातार 11 घंटे चली बैठक के बाद वे आखिरकार चीन को सैन्य मोर्चे पर घेरने में सफल हुए। सख्त रूख अख्तियार करते हुए उन्होंने न सिर्फ भारत की शर्त भी मनवाई बल्कि दुनिया के सामने भारतीय फौज का सिर भी ऊंचा कर दिया। गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प के बाद चीन ने स्वयं 22 जून को कोर कमांडर स्तर की बैठक की पहल की थी। देशहित को सर्वोपरि मानने वाले छत्तीसगढ़ के इस अफसर की कुशल नेतृत्व क्षमता को देखकर आज पूरा प्रदेश खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है।


भिलाई में हुई प्राथमिक शिक्षा, बचपन से देखा सेना में जाने का सपना


लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद पर सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह का जन्म भिलाई में हुआ है। प्राथमिक और हायर सेकंडरी शिक्षा भिलाई के बीएसपी सेक्टर 9 और 10 स्कूल से हुई है। उनके पिता दिवंगत सरदार गुरूनाम सिंह भिलाई स्टील प्लांट में मैनेजर थे। लेफ्टिनेंट जनरल सिंह के परिवार से ताल्लुक रखने वालों ने बताया कि वे बचपन से सेना में जाने का सपना देखते थे। आज उनकी सैन्य रणनीति की बदौलत भारत ने चीन को बड़ा सबक सिखाते हुए भारतीय सीमा से उसे पीछे हटने पर मजबूर कर दिया है।


गलवान घाटी में चीनी फौज को करारा जवाब देने वाले ये हैं छत्तीसगढ़ के ले. जनरल हरिंदर सिंह, सैन्य मोर्चे पर ऐसे घेरा धोखेबाज चीन को


साल 2010 में चीन सीमा विवाद पर लिखा था रिसर्च पेपर 


साल 2010 में ले. जनरल हरिंदर सिंह कर्नल के पद पर थे। उन्होंने 'इमरजिंग लैंड वॉरफाइटिंग डॉक्टराइन्स एंड केपेबिलिटीजÓ के टाइटल के साथ रिसर्च पेपर लिखा था। उन्होंने लिखा था कि भारत और चीन सन् 1962 के बाद से ही अपने सीमा विवाद को सुलझाने में लगे हुए हैं। बॉर्डर पर टकराव एक ऐसा मसला है जिसे रोका न जाए तो वह एक स्थानीय संघर्ष में तब्दील हो जाता है। 10 साल बाद उनकी लिखी बात गलवान घाटी में चीन के साथ हिंसक झड़प के रूप में सामने आई है। अब ले. जनरल इसी टकराव को सुलझाने के लिए 6 जून से लगातार चीनी फौज के साथ बैठक कर रहे थे।


लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर


ले. जनरल हरिंदर सिंह लद्दाख की राजधानी लेह स्थित 14वीं कोर के वर्तमान कमांडर हैं। इस कमांड को 'फायर एंड फ्यूरीÓ के नाम जाना जाता है। ले. जनरल सिंह को काउंटर इनसर्जेंसी का एक्सपर्ट माना जाता है। 14 कोर को कमांड करने से पहले वह सेना के कई अहम पदों पर सेवाएं दे चुके हैं। 14 कोर पर आने से पहले वह डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री इंटेलीजेंस, डायरेक्ट जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस और डायरेक्टर जनरल ऑफ लॉजिस्टिक्स एंड स्ट्रैटेजिक मूवमेंट को संभाल चुके हैं। नेशनल डिफेंस एकेडमी (एनडीएस) से पास आउट ले. जनरल सिंह अफ्रीका में यूनाइटेड मिशन के साथ भी तैनात रहे हैं।


उत्कृष्ट सेवा के लिए मिला सम्मान 


लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह को सेवा मेडल, विशिष्ट सेवा मेडल, युद्ध सेवा मेडल और अति विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किया जा चुका है


Popular posts
ईद-उल-अजहा पर्व पर आज विधायक कुलदीप जुनेजा और छत्तीसगढ़ विशेष के सम्पादक मनप्रीत सिंह ने सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते कहा कि ईद-उल-अजहा पर्व हमे भाईचारा एवं एकजुटता का संदेश देता है
Image
फेफड़ों को स्वस्थ और साफ रखने के लिए इन चीज़ों का रोजाना करें सेवन
Image
अखिर कार 4 हजार करोड़ की लागत से डोंगरगढ़-कवर्धा-कटघोरा रेल लाइन को रेल मंत्रालय ने मंजूरी दी,जल्द दौड़ेगी ट्रेन
Image
हास्य केंद्र योग के दसवें स्थापना वर्ष में शामिल हुए विधायक कुलदीप जुनेजा
Image
CG VESHESH SPECIAL : "मानव सेवा उत्तम सेवा " स्वैच्छिक कर्फ्यू में सेवा करते गुरुद्वारा गुरु सिंग सभा पंडरी रायपुर के सेवादार
Image
जोमेटो ऐप में कोल इंडिया के सहायक प्रबंधक नवीन बंसल की पत्नी को खाना मंगाना महंगा पड़ा - खाते से निकल गए 64 हजार
Image
बेहद खास है Google का ये ऐप - बिना इंटरनेट के कर सकेंगे फाइल शेयर
Image
एक आदमी की मौत पर मार डाले 300 से ज्यादा घड़ियाल, हैरतअंगेज है वारदात
Image
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत में कोई बदलाव नहीं, अभी भी वेंटिलेटर सपोर्ट पर: आर्मी अस्पताल
Image
हाथों पर ज्यादा सेनिटाइज़र का इस्तेमाल करते हैं तो इस तरह रखें ख्याल
Image