भारत ने चीन पर किया ‘मेक इन इंडिया’ अटैक --- 44 नयी वंदे भारत ट्रेन के टेंडर रेलवे ने किए रद्द


Report manpreet singh 


RAIPUR chhattisgarh VISHESH : चेन्नई, भारतीय रेलवे ने 44 नए वंदे भारत ट्रेन सेट रेक के टेंडर को रद्द कर दिया है. अगले एक हफ्ते में नया टेंडर जारी किया जाएगा. वजह है ‘मेक इन इंडिया’ को प्राथमिकता में लाना. अब नए टेंडर के नियम बदले जाएंगे. टेंडर रद्द करने का कारण मेक इन इंडिया को गति देना ही है लेकिन यहां एक प्रत्यक्ष कारण चीन की कंपनी को बाहर का रास्ता दिखाना ही अधिक है. टेंडर रद्द करके अब जब मेक इन इंडिया को ध्यान में रखते हुए इस बड़े टेंडर को नए सिरे से निकाला जाएगा तो उसके नियम भी ऐसे होंगे जिससे कोई चाइनीज कंपनी चाहकर भी बिड नहीं कर पाएगी. फिलहाल ये नियम सिर्फ वंदे भारत एक्सप्रेस के 44 नए ट्रेन सेटों को बनाने के टेंडर पर ही लागू होगा. वैसे भी रद्द किए गए टेंडर में सिर्फ एक ही विदेशी कंपनी ने बिड किया था और वो चीन की थी


वंदे भारत ट्रेन यानी सेमी हाई स्पीड ट्रेनें लाना दरअसल, भारतीय रेल के लिए एक बड़े सपने की तरह है. रेलवे को उम्मीद थी कि दूसरे कई विकसित देशों की रेल कंपनियां टेंडर में बिड करेंगी जिससे ट्रेन की क्वालिटी और बेहतर हो सकेगी. इसीलिए रेलवे ने इसका ‘ग्लोबल टेंडर’ निकाला. लेकिन टेंडर में ‘बचत’ की गुंजाइश कम देखकर चीन के अलावा किसी कंपनी ने हिस्सा नहीं लिया. लेकिन चीन की कंपनी सीआरआरसी ने बिड कर दिया. अब चीन को आर्थिक मोर्चे पर सबक सिखाने पर आमादा भारत सरकार ने सीआरआरसी को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए टेंडर ही रद्द कर दिया है.


आईसीएफ यानी इंटिग्रल कोच फैक्ट्री, चेन्नई भारतीय रेलवे का अभिन्न हिस्सा है. आईसीएफ चेन्नई ने 44 हाई स्पीड ट्रेन सेट रेक के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया था जिसमें सिर्फ सीआरआरसी ही एक मात्र विदेशी कंपनी थी जिसनें टेंडर में हिस्सा लिया था. कुल 6 कम्पनियों ने टेंडर में हिस्सा लिया था लेकिन बाकी पांचों कंपनियां भारतीय हैं.सीआरआरसी कॉरपोरेशन लिमिटेड चीन की सरकारी कंपनी है. सीआरआरसी ने गुड़गांव की अपनी भारतीय सहयोगी कंपनी पायनियर फिल मेड प्राइवेट लिमिटेड के साथ मिलकर एक ज्वाइंट वेंचर कंपनी सीआरआरसी-पायनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड बनाया है और इसी के नाम से टेंडर में हिस्सा लिया था. लेकिन अब रेलवे ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत प्रोक्योर्मेंट नॉर्म्स को बदलने का फैसला लेकर चीन को करारा जवाब दिया है l 


देश में पहली वंदे भारत एक्सप्रेस का लोकार्पण प्रधानमंत्री मोदी ने 15 फरवरी 2019 को नई दिल्ली से वाराणासी के लिए किया था. दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली से कटरा के बीच चलती है. इसका नाम पहले टी-18 था. इसे आईसीएफ चेन्नई ने बनाया था. ये दोनों ट्रेन सेट सौ प्रतिशत मेक इन इंडिया हैं. आईसीएफ ने प्रत्येक वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन सेट को महज 97 करोड़ में बनाया था. इसे 18 महीनों के भीतर ही डिजाइन करके पटरी पर उतार दिया गया था.


Popular posts
हाथी के गोबर से बनी इस चीज का सेवन आप रोज करते हो.. जाने कैसे
Image
बार बंद तो घर में शुरू कर दी हुक्का पार्टी -पुलिस ने की छापेमारी -धरे गए हुक्का पीते 11 रईसजादे
Image
राजधानी रायपुर से लगी खारून नदी के किनारे कुम्हारी से अमलेश्वर तक बनेगी 8 किमी नई सड़क
Image
सर्दियों में सॉफ्ट और खूबसूरत स्किन के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स, कोमल बनेगी त्वचा, ग्लो रहेगा बरकरार
Image
महिला कांस्टेबल ने साथ क्वारेंटीन होने BF को बनाया नकली पति, तभी आ पहुंची असली पत्नी फिर जो हुआ...
Image
छत्तीसगढ़ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
Image
PACL के 12 लाख निवेशकों को 429 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का पेमेंट किया जा चुका है। इनमें ज्यादातर छोटे निवेशक हैं, जिन्होंने कंपनी पर 10,000 रुपये तक का दावा किया था - बैंक खाते में भेजे पैसे l
Image