भारत ने चीन पर किया ‘मेक इन इंडिया’ अटैक --- 44 नयी वंदे भारत ट्रेन के टेंडर रेलवे ने किए रद्द


Report manpreet singh 


RAIPUR chhattisgarh VISHESH : चेन्नई, भारतीय रेलवे ने 44 नए वंदे भारत ट्रेन सेट रेक के टेंडर को रद्द कर दिया है. अगले एक हफ्ते में नया टेंडर जारी किया जाएगा. वजह है ‘मेक इन इंडिया’ को प्राथमिकता में लाना. अब नए टेंडर के नियम बदले जाएंगे. टेंडर रद्द करने का कारण मेक इन इंडिया को गति देना ही है लेकिन यहां एक प्रत्यक्ष कारण चीन की कंपनी को बाहर का रास्ता दिखाना ही अधिक है. टेंडर रद्द करके अब जब मेक इन इंडिया को ध्यान में रखते हुए इस बड़े टेंडर को नए सिरे से निकाला जाएगा तो उसके नियम भी ऐसे होंगे जिससे कोई चाइनीज कंपनी चाहकर भी बिड नहीं कर पाएगी. फिलहाल ये नियम सिर्फ वंदे भारत एक्सप्रेस के 44 नए ट्रेन सेटों को बनाने के टेंडर पर ही लागू होगा. वैसे भी रद्द किए गए टेंडर में सिर्फ एक ही विदेशी कंपनी ने बिड किया था और वो चीन की थी


वंदे भारत ट्रेन यानी सेमी हाई स्पीड ट्रेनें लाना दरअसल, भारतीय रेल के लिए एक बड़े सपने की तरह है. रेलवे को उम्मीद थी कि दूसरे कई विकसित देशों की रेल कंपनियां टेंडर में बिड करेंगी जिससे ट्रेन की क्वालिटी और बेहतर हो सकेगी. इसीलिए रेलवे ने इसका ‘ग्लोबल टेंडर’ निकाला. लेकिन टेंडर में ‘बचत’ की गुंजाइश कम देखकर चीन के अलावा किसी कंपनी ने हिस्सा नहीं लिया. लेकिन चीन की कंपनी सीआरआरसी ने बिड कर दिया. अब चीन को आर्थिक मोर्चे पर सबक सिखाने पर आमादा भारत सरकार ने सीआरआरसी को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए टेंडर ही रद्द कर दिया है.


आईसीएफ यानी इंटिग्रल कोच फैक्ट्री, चेन्नई भारतीय रेलवे का अभिन्न हिस्सा है. आईसीएफ चेन्नई ने 44 हाई स्पीड ट्रेन सेट रेक के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया था जिसमें सिर्फ सीआरआरसी ही एक मात्र विदेशी कंपनी थी जिसनें टेंडर में हिस्सा लिया था. कुल 6 कम्पनियों ने टेंडर में हिस्सा लिया था लेकिन बाकी पांचों कंपनियां भारतीय हैं.सीआरआरसी कॉरपोरेशन लिमिटेड चीन की सरकारी कंपनी है. सीआरआरसी ने गुड़गांव की अपनी भारतीय सहयोगी कंपनी पायनियर फिल मेड प्राइवेट लिमिटेड के साथ मिलकर एक ज्वाइंट वेंचर कंपनी सीआरआरसी-पायनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड बनाया है और इसी के नाम से टेंडर में हिस्सा लिया था. लेकिन अब रेलवे ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत प्रोक्योर्मेंट नॉर्म्स को बदलने का फैसला लेकर चीन को करारा जवाब दिया है l 


देश में पहली वंदे भारत एक्सप्रेस का लोकार्पण प्रधानमंत्री मोदी ने 15 फरवरी 2019 को नई दिल्ली से वाराणासी के लिए किया था. दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली से कटरा के बीच चलती है. इसका नाम पहले टी-18 था. इसे आईसीएफ चेन्नई ने बनाया था. ये दोनों ट्रेन सेट सौ प्रतिशत मेक इन इंडिया हैं. आईसीएफ ने प्रत्येक वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन सेट को महज 97 करोड़ में बनाया था. इसे 18 महीनों के भीतर ही डिजाइन करके पटरी पर उतार दिया गया था.


Popular posts
एयर चीफ मार्शल राकेश भदौरिया का बड़ा बयान- LAC पर भारतीय वायुसेना चीन पर पड़ेगी भारी
Image
शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए तकनीकी पाठ्यक्रमों,PET, PPHT, PPT और PMCA की परीक्षाएं रद्द --- शैक्षणिक योग्यता और प्राप्तांक के आधार पर मिलेगी प्रवेश,देखे आदेश
Image
प्रशासन को सूद नहीं - रायपुर शहर के श्मशानघाटों पर अब चिता की लकड़ी भी आम आदमी की पहुंच से बाहर - चिता की लकड़ी 800 क्विंटल, कंडा 500 सैकड़ा
Image
4 साल की मासूम का किडनैप के बाद रेप, हत्या के बाद छुपाया पलंग के नीचे बच्ची की लाश को पलंग के नीचे छुपाकर बच्ची को ढूंढने का नाटक करने लगा
Image
हर किसी को दीवाना बनाती है मिजोरम की सुंदर घाटीया
Image
छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पर आदिवासियों के साथ छल, कपट और अन्याय का आरोप --- पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल
Image
ऐश्वर्या राज बच्चन और बेटी आराध्या को अस्पताल से छुट्टी….
Image
पीएम मोदी ने ट्वीट कर जापान के नए प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा को बधार्ई दी
Image
रिसाली नगर निगम अंतर्गत नेवई एवं स्टेशन मरोदा की भूमि भिलाई इस्पात संयंत्र से राज्य शासन को हस्तांतरित करने, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान को पत्र लिख कर आग्रह किया  
Image
कब्ज के लिए रामबाण दवा है सेंधा नमक, ऐसे करें सेवन
Image