इस नई शल्य प्रक्रिया से डायबिटीज के गंभीर रोगियों को इंसुलिन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी, देखे


Report manpreet singh 

RAIPUR chhattisgarh VISHESH : डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जो शरीर में कई बीमारियों के लिए अवसर मुहैया कराती है। दुनिया भर के लगभग 10 फीसद लोग इस बीमारी से ग्रस्त हैं। टाइप-2 डायबिटीज से गंभीर रूप से ग्रसित रोगियों को रोज इंसुलिन का इंजेक्शन लेना पड़ता है जो बहुत ही तकलीफ देने वाला तरीका है। लेकिन वैज्ञानिकों ने ऐसा तरीका इजाद किया है जिसमें अब ज्यादातर डायबिटीज के गंभीर रोगियों को इंसुलिन लेने की आवश्यकता ही खत्म हो जाएगी। उनके शरीर में इस प्रक्रिया के माध्यम से अपने आप इंसुलिन बनने लगेगा। दूसरी ओर लोगों को डायबिटीज के महंगे इलाज से भी छुटकारा मिल सकता है।

इस प्रक्रिया में एक कैथेडर को छोटी आंत में प्रतिरोपित किया जाएगा जिससे म्यूकोसल कोशिकाएं नष्ट हो जाएंगी। म्यूकोसल कोशिकाओं के कारण ही शरीर में अंदरुनी प्रक्रियाओं में परिवर्तन आने लगता है और इंसलिन का उत्पादन कम होने लगता है। इस प्रक्रिया को ड्यूडेनल म्यूकोजल रिसरफेसिंग यानी डीएमआर नाम दिया गया है। म्यूकोजल टिशू के नष्ट होने के बाद नए और स्वस्थ कोशिकाओं का उत्पादन होगा जिससे डायबिटीज में इंसुलिन लेने की आवश्यकता नहीं होगी।

लाखों रुपये बचेंगे : पायलट परियोजना के आधार पर इस प्रक्रिया का परीक्षण नीदरलैंड में हो रहा है। डीएमआर का आविष्कार बायोटेक्नोलॉजी कंपनी फ्रेक्टाइल के सीईओ डॉ हेरीथ राजगोपालन ने किया है। पायलट परियोजना का रिजल्ट बहुत अच्छा रहा है। डीएमआर प्रक्रिया के कारण इंसुलिन पर पूरी तरह निर्भर टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में 75 प्रतिशत को छह महीने बाद इंसुलिन की आवश्यकता से मुक्त कर दिया गया है।

इस प्रक्रिया के तहत भाग लेने वाले बाकी प्रतिभागियों में भी इंसुलिन की मात्रा को आधे तक कम किया गया है। इस अध्ययन में यह भी देखा गया कि जिन लोगों ने डीएमआर प्रक्रिया में भाग लिया, उनके बॉडी मास इंडेक्स बीएमआई में भी आश्चर्यजनक रूप से कमी आई है। डॉ हेरीथ राजगोपालन ने बताया कि डायबिटीज के कारण दुनिया भर में अरबों डॉलर खर्च करना पड़ता है। टाइप 2 डायबिटीज के लिए अकेले अमेरिका में 58 दवाओं को मंजूरी मिल चुकी है जिसकी कीमते सैकड़ों डॉलर में है।

डीएमआर इन सभी समस्याओं का समाधान है। इससे दुनिया में अरबों डॉलर बचाया जा सकता है। यह दुनिया की ऐसी पहली थेरेपी होगी जिसमें इंसुलिन पर निर्भर लोगों को इंसुलिन की आवश्यकता ही खत्म कर दी जाएगी। इस प्रक्रिया के लिए एक छोटी सी सर्जरी करनी पड़ेगी। इसके लिए अस्पताल में भर्ती होने की भी जरूरत नहीं।

Popular posts
एयर चीफ मार्शल राकेश भदौरिया का बड़ा बयान- LAC पर भारतीय वायुसेना चीन पर पड़ेगी भारी
Image
शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए तकनीकी पाठ्यक्रमों,PET, PPHT, PPT और PMCA की परीक्षाएं रद्द --- शैक्षणिक योग्यता और प्राप्तांक के आधार पर मिलेगी प्रवेश,देखे आदेश
Image
प्रशासन को सूद नहीं - रायपुर शहर के श्मशानघाटों पर अब चिता की लकड़ी भी आम आदमी की पहुंच से बाहर - चिता की लकड़ी 800 क्विंटल, कंडा 500 सैकड़ा
Image
4 साल की मासूम का किडनैप के बाद रेप, हत्या के बाद छुपाया पलंग के नीचे बच्ची की लाश को पलंग के नीचे छुपाकर बच्ची को ढूंढने का नाटक करने लगा
Image
हर किसी को दीवाना बनाती है मिजोरम की सुंदर घाटीया
Image
छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पर आदिवासियों के साथ छल, कपट और अन्याय का आरोप --- पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल
Image
ऐश्वर्या राज बच्चन और बेटी आराध्या को अस्पताल से छुट्टी….
Image
पीएम मोदी ने ट्वीट कर जापान के नए प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा को बधार्ई दी
Image
रिसाली नगर निगम अंतर्गत नेवई एवं स्टेशन मरोदा की भूमि भिलाई इस्पात संयंत्र से राज्य शासन को हस्तांतरित करने, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान को पत्र लिख कर आग्रह किया  
Image
महिला कांस्टेबल ने साथ क्वारेंटीन होने BF को बनाया नकली पति, तभी आ पहुंची असली पत्नी फिर जो हुआ...
Image